Home   »   क्या रजिया सुल्ताना के लिए महिला...

क्या रजिया सुल्ताना के लिए महिला होना अभिशाप था? दिल्ली सल्तनत- UPPSC Exam 2022 – Free PDF Download

रजिया सुल्तान (1236 से 1240)

  • इल्तुतमिश का ज्येष्ठ पुत्र नसीरुद्दीन महमूद का असमय निधन हो जाने के कारण शहतुर्कान ने षड़यंत्र कर के रुकनुद्दीन को शासक बनाया।
  • Due to the untimely death of Iltutmish’s eldest son Nasiruddin Mahmud, Shahturkan conspired and made Ruknuddin the ruler.
  • जन्म – 1205 मे, बदायूं में;
  • पूरा नाम – जलालात उद-दिन-रजिया
  • उपाधि – उमदत-उल-निस्वां
  • Born – in 1205, in Badaun;
  • Full Name – Jalalat ud-Din-Razia
  • Title – Umdat-ul-Niswan
  • इसके सिक्के ‘सुल्तान रज़ियत अल दुनिया वाल दीन बिन्त अल सुल्तान’ के रूप में ढाले गए।
  • Its coins were minted as ‘Sultan raziyat al duniya wal din bint al sultan’.
  • सुल्तान बनने के बाद रजिया ने महिला वस्त्र त्यागकर पुरषों के वस्त्र कबा एवं कुलाह धारण किया।
  • After becoming the Sultan, Razia gave up women’s clothes and wore men’s clothes Kaba and Kulah.
  • तुर्क अमीरों और प्रधानमंत्री निजामुल जुनैद ने मलिक इजाउद्दीन मुहम्मद सालारी, कबीर खां अयाज और मलिक अलाउद्दीन जानी के साथ संघ बना कर विद्रोह किया।
  • The Turkic nobles and Prime Minister Nizamul Junaid revolted by forming a union with Malik Izauddin Muhammad Salari, Kabir Khan Ayaz and Malik Alauddin Jani.
  • रजिया ने कबीर खां को लाहौर, इख्तियारुद्दीन ऐतगीन को बदायूं और मलिक अल्तुनिया को भटिंडा का इक्तेदार बनाया
  • Razia made Kabir Khan the Iqtedar of Lahore, Ikhtiyaruddin Aitgin as Badaun and Malik Altunia as Bhatinda.
  • मलिक जमालुदीन याकूत खां – अमीर-ए-आखूर
  • Malik Jamaluddin Yakut Khan – Amir-e-Akhoor
  • तारीख-ए-फ़रिश्ता – मुहम्मद कासिम फ़रिश्ता (फारसी) –
  • “जब भी रानी घोड़े पर सवार होती थी तो आमीर-ए-आखूर हमेशा अपने हाथों से सहारा देता था”.
  • Tarikh-e-Farishta – Muhammad Qasim Farishta (Persian) –
  • “Whenever the queen used to ride on a horse, Amir-e-Akhoor always supported her with her hands”.

रजिया के विरुद्ध प्रमुख षड़यंत्रकारी-

  • इख़्तयारुद्दीन ऐतगीन
  • अल्तुनिया और
  • कबीर खां
  • The main conspirator against Razia-
  • Ikhtyaruddin Aitgeen
  • Altunia and
  • Kabir Khan
  • रजिया ने इस विद्रोह को दबाना चाहा परन्तु अल्तुनिया ने याकूत खां की हत्या कर दि और रजिया को जेल में कैद कर दिया .
  • Razia tried to suppress this rebellion, but Altunia killed Yakut Khan and imprisoned Razia in jail.
  • इधर दिल्ली में तुर्क सरदारों ने मुइजुद्दीन बहराम शाह को दिल्ली का सुल्तान बना दिया .
  • Here in Delhi the Ottoman chieftains made Muizuddin Bahram Shah the Sultan of Delhi.
  • बहराम ने ऐतगीन को नायब-ए-मामलिकात का पद दिया और अन्य विश्वासपात्र को भी उच्च पद दिया.
  • Bahram gave the post of Naib-i-Mamlikat to Aitgin and also gave high rank to other confidant.
  • रजिया ने मलिक अल्तुनिया से विवाह कर एक नयी सेना बनायीं जिसमे राजपूत, जाट और खोखर शामिल थे.
  • Razia married Malik Altunia and formed a new army consisting of Rajputs, Jats and Khokhars.
  • बहराम शाह से युद्ध में पराजित होने के बाद रजिया और अल्तुनिया जब भटिंडा वापस जाने लगे तो 14 अक्टूबर 1240 को डाकुओं ने दोनों की हत्या कर दि .
  • When Razia and Altunia started going back to Bathinda after being defeated in battle with Bahram Shah, both were killed by the bandits on 14 October 1240.
  • रजिया की कब्रगाह तुर्कमान गेट चांदनी चौक दिल्ली और कैथल दोनों जगह मौजूद है
  • Razia’s graveyard is present both at Turkman Gate, Chandni Chowk, Delhi and Kaithal.

तबकात-ए-नासिरी – मिन्हाज उस सिराज (फारसी) के अनुसार –

  • “सुल्तान रजिया बुद्धिमान, उदारवादी, न्यायप्रिय और जनता का दुःख/दर्द समझने वाली महान शासिका थी परन्तु महिला होने के कारण पुरुषों की नजर में ये सभी गुण बेकार थे .

 

Downnload | Free PDF

 

Sharing is caring!

Download your free content now!

Congratulations!

We have received your details!

We'll share General Studies Study Material on your E-mail Id.

Download your free content now!

We have already received your details!

We'll share General Studies Study Material on your E-mail Id.

Incorrect details? Fill the form again here

General Studies PDF

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.